उल्लास - प्रत्येक गुरुवार

उल्लास - प्रत्येक गुरुवार

“उल्लास” श्रृंखला अंतर्गत हिन्दी बाल फिल्म ‘अश्व’ का प्रदर्शन हुआ

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में बाल फिल्मों के साप्ताहिक प्रदर्शन ‘उल्लास’ श्रृंखला अतंर्गत 27 जुलाई, 2017 को दोपहर 2.00 बजे श्याम रंजनकर द्वारा निर्देषित एवं वर्ष 1993 में प्रदर्शित हिन्दी बाल फिल्म ‘अश्व’ का प्रदर्शन किया गया। इस फिल्म में योगेश चिकने, मीता वरिष्ठ, सचिन शंकर, साधु मेहेर ने प्रमुख भूमिका निभाई है। फिल्म की अवधि 88 मिनिट है।

इस फिल्म की कहानी में दोस्ती को महŸव दिया गया है। जिसमें एक छोटे से बालक और घोड़े की मित्रता के बारे में बताया गया है। बालक जो कि बाँसुरी की सुन्दर धुन बजाता है। बाँसुरी की मनमोहक धुन से घोड़ा उसके आस-पास ही रहने लगता है, और घोड़े के इस स्नेह भाव को देखकर बालक उसका दोस्त बन जाता है। घोड़ा जो कि एक जमींदार का है। इस कारण से उसकी माँ उससे कहती है, कि वह उस घोड़े से दूर रहे है, क्योंकि हम लोग एक साधारण परिवार से है हमारा और उनका कोई मेल नहीं है।

इसी बीच अचानक जमींदार की तबियत खराब हो जाने से घोड़े को शहर में बेच दिया जाता है। लेकिन बालक की मित्रता और उसकी मनमोहक बाँसुरी की धुन से प्रभावित घोड़ा वापस गाँव आ जाता है, और दोनों एक साथ मिलकर फिर गाँव में रहने लगते है।

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें