जीवन शैली

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है। अनाज रखने की यह गोंड कोठी घर के भीतर आड़ (पार्टीशन) निर्मित करने, अनाज को सुरक्षित रखने, इस पर बने आलों में घर की अन्य छुटपुट वस्तुएँ रखने, भित्ति का कैनवास के बतौर तथा बीच की खाली जगह का आवाजाही के लिये द्वार के बतौर प्रयोग होता है। इसकी भित्तियों पर मण्डला क्षेत्र के कलाकारों ने चहुँओर मिट्टी ओर रंग से चित्रकारी की है, जिसमें अनाज के पैदा होने और उसे सुरक्षित रखने के लिये प्रथम गोंड स्त्री द्वारा किये गये उपाय का जिक्र आता है। यहाँ दीर्घा-दो में प्रदर्शित जनजातीय जीवन के विविध पक्षों की विस्तृत जानकारी अत्याधुनिक माध्यमों और उपकरणों के द्वारा दी जायेगी।

यह तो स्पष्ट ही है कि दीर्घा के सीमित दायरे में मध्यप्रदेश की समस्त जनजातियों के आवास प्रकारों को यथावत न दिखाया जा सकता है न ही इस संग्रहालय के संदर्भ में यह वांछनीय है। यहाँ इन सभी समुदायों के आवास की वास्तुगत, शिल्पगत, व्यवहारगत और वस्तुगत (उपयुक्त सामग्री) विशेषताओं की ओर इशारा भर करने की कोशिश की जा रही है।

इन आदिवासी समुदायों के आवास अथवा घर की संरचना में पिछले पाँच-सात दशकों में क्या बदलाव आये हैं-आ रहे हैं, इन्हें भी यहाँ लक्षित किया जा सकता है। उदाहरण के लिये बैगा घर की दीवारें पहले किसी मजबूत झाड़ी या घास की टटिया बाँधकर, बाद में बाँस की टटिया पर मिट्टी की छपाई कर, फिर पूरी तरह से मिट्टी और फिर ईंट प्रयोग कर बनाई जाने लगी। छत छवाने के लिये भी पहले पत्ते, फिर घास के खास प्रकार, फिर कवेलू और फिर फेक्ट्री निर्मित इंग्लिश कवेलूओं के काम में लाये जाने लगे। बदलाव की इस प्रक्रिया को जानना तथा उसके कारणों की पड़ताल आदिवासी क्षेत्रों में आये बदलावों को भी समझने में मदद करेगा।

इन घरों में मुक्ताकाश आँगन का महत्त्व, आँगन में पेड़ का महत्त्व, घर के प्रांगण में मवेशी की घर के सदस्यों जैसी उपस्थिति के विचार को भी भाँति-भाँति से प्रदर्शित किया जा रहा है।

कुछ घरों का केवल बाह्य स्वरूप बनाकर आभास खड़ा किया जायेगा, तो कुछ की भौगोलीय स्थिति का आभास भी पैदा करने की कोशिश की जायेगी। उदाहरण के लिये भील घर प्राय: अकेले और किसी छोटी सी टेकरी पर होते हैं, और वैसा ही कुछ यहाँ दिखाने की चेष्टा की जा रही है। घर से जुड़ी महत्त्वपूर्ण वस्तुएँ चित्रांकन आदि भी यहाँ किये जा रहे है। सादगी के बीच इनमें से प्रत्येक घर के विशिष्टता तथा उनके द्वारा प्रयुक्त की जा रही प्राकृतिक सामग्री-लकड़ी, मिट्टी की अनेकानेक संभावनाओं को भी यहाँ लक्षित किया जा सकता है।

दरअसल यह दीर्घा स्वयं एक आँगन है, जिससें प्रदेश के विभिन्न आदिवासी समुदायों के घर एक दूसरे से सटे, एक दूसरे में झाँकते हुए, एक दूसरे का पड़ौस निर्मित कर रहे हैं। किसी एक समुदाय के एक दरवाजे से घुस कर आप कभी खुद को किसी अन्य घर में निकलता पायेंगे, तो कभी बैगा मोहल्ले की गली आपको सीधे किसी निर्जन टेकरी पर बने भील घर तक ले जाने का वादा करेगी।

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें