प्रदर्शनी दीर्घा

अतिथि राज्य - छत्तीसगढ़

Pictorial and written documentation of games of children of various tribal communities like Baiga, Gond, Saharia, Kol, Korko, Bharia etc has been made by visiting their areas. Since there are a number of games of tribal children but only a few toys, this display is being shaped with paintings, photographs and other means well besides toys.

Playing images have been prepared using terracotta, hollows of dried gourd, hemp, papier-mâché etc. with a view to make understand nature of game. Images jumping, swaying on trees can be seen to understand games played on trees. Wrestling images smeared in mud can also be seen. Images of games played on ground like gippa, goti, chaupad etc. will be shown on the ground.

Use of earthen pitchers made by potters of western Madhya Pradesh in improving gallery’s acoustics and lighting arrangements is worth noticing. Despite being a part of indigenous knowledge, this can open a new important and innovative vista of using the technique in modern context. A partition made of pieces of dry bamboo will be effective in maintaining gallery’s light, warmth and environment.

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें