अतिथि राज्य - छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य - छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है। देवलोक से इस दीर्घा की ओर जाने वाला गलियारा इसीलिये छत्तीसगढ़ के सरगुजा अंचल की रजवार जनजाति के आँगन व उससे लगे हुए गलियारे में बदल गया है। रजवार घरों में बाँस-मिट्टी की जालियों और लिपाई का तरीका अत्यंत विशिष्ट है और इसे न केवल अपने समुदाय बल्कि अपने राज्य की पहचान बन जाने का दर्जा प्राप्त है।

छत्तीसगढ़ जनजातीय बहुल राज्य है, तथा इन जनजातियों का एक बड़ा समूह बस्तर क्षेत्र में रहता है। बस्तर में दशहरे के समय बनने वाले दशहरा रथ की समूची निर्माण प्रक्रिया जंगल से उसके लिये आवश्यक लकड़ी हेतु पेड़ चिन्हित करने से लेकर छाजन के लिये पत्ते इकट्ठे करने, कीलें ठोकने, रथ के विविध अंगों का निर्माण करने एवं जगदलपुर में माउली माता के छत्र लाने, उसे सडक़ों पर मोडऩे, खींचकर चलाने आदि तक के सम्पन्न होने में वहाँ की सभी जनजातियों की सुनिश्चित भूमिका होती है। इस दीर्घा में जनजातीय पास्परिकता को चरितार्थ करते इस सारगर्भित प्रादर्श के साथ उन समस्त जनजातियों की विशेषताओं को जोडक़र समझने-दर्शाने की कोशिश उनके भौतिक रूपों से की जा रही है।
इसके अलावा मावली माता की गुड़ी, शीतला माता का स्थान, घोटुल, करमसेनी वृक्ष, एक गली जिसमें कुम्हार, पनिका और लोहार/सुनार के घर और उनके औजार, रूपाकार आदि भी इस दीर्घा में बनाये जा रहे हैं।

बस्तर की अधिष्ठात्री देवी दंतेश्वरी की गुड़ी बस्तर के राजवाड़े के द्वार के भीतर ही है, तथा दंतेश्वरी माता को बस्तर लाने, दशहरा रथ को बनाने, इस पर्व को इस रूप में मनाये जाने, सभी में बस्तर के राज परिवार की बड़ी भूमिका रही है, और इन पर्वों, अनुष्ठानों से बस्तर की समस्त जनजातियाँ गहरा लगाव अनुभव करती हैं। इसी के मद्देनज़र इस दीर्घा के एक प्रवेश द्वार को राजवाड़े के प्रवेश द्वार का रूप दिये जाने पर सम्मति बनी।
अन्य दीर्घाओं की तरह दर्शक यहाँ भी रथ पर चढ़ कर ऊपर से भी दीर्घा तथा इस रथ के रूप को देख सकेंगे।

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें