अकादमी के प्रकाशन

चौमासा | अनुषंग | अन्य पुस्तकें


अन्य पुस्तकें

क्र पुस्तक का नाम लेखक
1. आख्यान
(गोण्ड जनजाति के कथा इतिहास का साक्ष्य)
डाॅ. विजय चौरसिया
2. आंचलिक फाग साहित्य
(मध्यप्रदेश के जनपदों की फागें)
सम्पादक-डाॅ.कपिल तिवारी
3. अंकन
(वस्त्र छपाई एवं रंगाई परम्परा पर केन्द्रित)
चिन्मय मिश्र
4. बघेली-हिन्दी शब्दकोश श्रीनिवास शुक्ल ‘सरस‘
5. बहुविध (विमर्श का क्रम) डाॅ. राजमति दिवाकर
6. भील जनजातीय गीत गोविन्द गेहलोत/डाॅ. महेश चन्द्र शांडिल्य
7. भील देवलोक (NA) भानुशंकर गेहलोत/डाॅ. धर्मेन्द्र पारे
8. बुन्देली का भाषा शास्त्र डाॅ. आरती दुबे
9. प्राथमिक-शिक्षण की बुन्देली-परिपाटी महेश कुमार मिश्र ‘मधुकर‘
10. बुन्देलखण्ड की छन्दबद्ध काव्य परम्परा डाॅ. बहादुर सिंह परमार/डाॅ.
हरिसिंह घोष
11. बुन्देली इतिहास और संस्कृति सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
12. बुन्देली लोक साहित्य परम्परा और इतिहास प्रो. नर्मदा प्रसाद गुप्त
13. बुन्देली संस्कृति और साहित्य प्रो. नर्मदा प्रसाद गुप्त
14. बुन्देली-हिन्दी शब्दकोश रमेश गुप्त
15. चम्बल की वाक् पद्धति
(मध्यप्रदेश के चम्बल जनपद के मुहावरे और लोकोक्तियाँ)
डाॅ. भगवान सहाय शर्मा/डाॅ. सुधीर आचार्य
16. चम्बल की संस्कृति और साहित्य डाॅ. ओमप्रकाश चैबे
17. मेहफिले चारबेत मोहम्मद अनीस अन्सारी
18. चितरावन (मध्यप्रदेश के मालवा जनपद की चित्रकला) डाॅ. भगवतीलाल राजपुरोहित
19. धार एवं माण्डू की सूफी सन्त परम्परा राम सेवक गर्ग
20. आदिवासी धरोहर मध्यप्रदेश बी.पी.सिंह/लक्ष्मीनारायण पयोधि
21. ईसुरी का फाग साहित्य डाॅ. लोकेन्द्र सिंह नागर
22. गोंड देवलोक डाॅ. धर्मेन्द्र पारे
23. हज़रत मौलाना कमालुद्दीन चिश्ती रह. और उनका युग राम सेवक गर्ग
24. मध्यप्रदेश के जनजातीय फाग गीत सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
25. जनपदीय संस्कार गीत Part - 1
(मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड और बघेलखण्ड अंचल में प्रचलित संस्कार गीत)
सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
26. जनपदीय संस्कार गीत Part - 2
(मध्यप्रदेश के निमाड़ और मालवा अंचल में प्रचलित संस्कार गीत)
सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
27. जिरोती
(मध्यप्रदेश के निमाड़ जनपद की चित्रकला)
वसन्त निरगुणे
28. भारतीय काल दर्शन महेश कुमार मिश्र ‘मधुकर‘
29. मध्यप्रदेश की जनपदीय कहावतें सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
30. मध्यप्रदेश के जनपदीय खेल गीत सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
31. कोहबर (मध्यप्रदेश के बघेलखण्ड जनपद की चित्रकला) गोमती प्रसाद विकल
32. लोक मंे कबीर (कबीर की छाप वाले निर्गुण भक्ति पद) सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
33. लोक आख्यान(जनपदीय जीवन और संस्कृति का कथा साक्ष्य) सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
34. कोरकू देवलोक डाॅ. धर्मेन्द्र पारे
35. लोक की भक्ति (भक्ति की लोक भूमिका) सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
36. मध्यप्रदेश की जनपदीय पहेलियाँ सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
37. मध्यप्रदेश की जनपदीय कथाएँ सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
38. मध्यप्रदेश के जनपदीय ऋतु गीत सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
39. मध्यप्रदेश के जनपदीय रामकथा गीत सम्पादक डाॅ. कपिल तिवारी
40. मालवी संस्कृति और साहित्य डाॅ. भगवतीलाल राजपुरोहित
41. मालवी-हिन्दी शब्दकोश
डाॅ. भगवतीलाल राजपुरोहित, डाॅ. प्रहलाद चन्द्र जोशी
42. मालवी संस्कार गीत श्रीमती निर्मला राजपुरोहित
43. निमाड़ी-हिन्दी शब्दकोश, व्याकरण और अलंकार (NA) महादेव प्रसाद चतुर्वेदी ‘माध्या‘,दिनकर राव दुबे ‘दिनेश‘
44. निमाड़ी मुहावरे (मध्यप्रदेश के निमाड़ी जनपद की वाचिक परम्परा) वसन्त निरगुणे
45. निमाड़ी संस्कृति और साहित्य वसन्त निरगुणे
46. पिठौरा (भील जनजातीय चित्रांकन और मिथ कथाएँ) वसन्त निरगुणे, भानुशंकर गेहलोत
47. रामकथा (देश की पारम्परिक लोकचित्र शैलियों में) (NA) संकलन एवं सम्पादन-वसन्त निरगुणे
48. रंगभूमि(मध्यप्रदेश के जनपदों की लोकनाट्य शैलियों पर विमर्श और पाठ) सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
49. रेवांचल के गीत(मध्यप्रदेश के बघेलखण्ड का वाचिक पक्ष) प्रो. मिथिला प्रसाद त्रिपाठी
50. सम्पदा(मध्यप्रदेश की जनजातीय सांस्कृतिक परम्परा का साक्ष्य) सम्पादक-डाॅ. कपिल तिवारी
51. श्री रामचरितमानस (भीली भावार्थ)
भानुशंकर गेहलोत
52. सुराँती (मध्यप्रदेश के बुन्देलखण्ड जनपद की चित्रकला) महेश कुमार मिश्र ‘मधुकर‘
53. तन्तुजा (वस्त्र बुनाई परम्परा पर केन्द्रित) चिन्मय मिश्र
54. तँवरधारी-हिन्दी शब्दकोश डाॅ. रामस्वरूप उपाध्याय ‘सरस‘
55. मध्यप्रदेश की जनपदीय व्रत कथाएँ प्रधान सम्पादक-श्रीराम तिवारी
56. मालवी आख्यान डॉ. पूरन सहगल
57. संत सैन भगत डॉ. पूरन सहगल
58. बुंदेले मुहावरे डॉ दुर्गेश दिक्षित
59. निमाड़ी गीत और स्वर श्रीमती हेमलता उपाध्याय
60. रंग लोक - 2014 डॉ अद्याप्रसाद द्विवेदी
61. ईसुरी - 2015 डॉ मोहन आनंद
62. मालवी खेल बंशीधर बंधु
63. मालवी जनकथा निर्मला राजपुरोहित
64. अलख निरंजन डॉ. पूरन सहगल

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें