ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' का आयोजन 14 से 18 मई तक

'नन्हीं कलम से'

ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' का आयोजन 14 से 18 मई तक


मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में प्रदेश के शासकीय स्कूलों के होनहार विद्यार्थियों की सहभागिता में राज्य स्तरीय रचनात्मक हिंदी ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' का शुभारम्भ संग्रहालय सभागार में हुआ| इस मौके पर दीप्ति गौर मुखर्जी(प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा) और लोकेश कुमार जाटव,संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र भी मौजूद रहे| बाल रचनाकारों ने जनजातीय संग्रहालय का भ्रमण किया और जनजातीय लोक जीवन, परंपरा, अनुष्ठान और खेलों आदि को करीब से जाना|

रचनात्मक हिंदी के राज्य स्तरीय ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' में कहानी उत्सव के विजेता एवं गुल्लक बाल पत्रिका के बाल रचनाकार विद्यार्थी शामिल हुए| कार्यक्रम में बाल रचनाकारों ने अपनी कहानियों, कवितायों और गीतों को प्रस्तुत किया| जिसमें बाल रचनाकार भावना बघेलिया(मंदसौर) ने कहानी, वहानी यादव(सागर) ने कहानी, चंचल चौरसिया(उज्जैन) ने कहानी, अरुण धाकड़(गुना) ने कविता और सोहेल खान(शिवानी) ने कहानी, इसी क्रम में कई बाल रचनाकारों ने एकता, व्यवहार, कौशल और नैतिकता आदि मुद्दों पर अपनी लेखनी प्रस्तुत कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया| श्रोताओं ने करतल ध्वनि से बाल रचनाकारों का उत्साह वर्धन किया|

इस ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' में प्रदेश के हर जिले से मेधावी विद्यार्थियों के द्वारा सहभागिता की जा रही है| ये वे विद्यार्थी हैं, जिन्होंने विगत कहानी उत्सव में जिला एवं प्रदेश स्तर पर उत्कृष्ट स्थान प्राप्त किया था| इसके साथ ही राज्य शिक्षा केंद्र द्वारा प्रकाशित की जा रही बाल पत्रिका 'गुल्लक' के रचनाकार बच्चे भी इस ग्रीष्म शिविर में सहभागिता कर रहे हैं| उल्लेखनीय है कि प्रदेश की समस्त प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में आनंददायी वातावरण के निर्माण, कक्षा शिक्षण को रोचक तथा प्रभावी बनाने और विद्यार्थियों की पठन क्षमता के विकास की दृष्टि से सत्र 2017-18 में शाला स्तर से राज्य स्तर तक कहानी उत्सव का आयोजन किया गया था| इसके साथ ही बच्चों की रचनात्मकता को एक मंच प्रदान करने की दृष्टि से राज्य स्तर से 'गुल्लक' और जिलों से 'नवांकुर' बाल पत्रिकाओं का प्रकाशन भी प्रारंभ किया गया है| इसी कड़ी में इन बाल प्रतिभाओं के प्रोत्साहन और दूसरे बच्चों को प्रेरणा के लिए इस वर्ष से इस ग्रीष्म शिविर का आयोजन किया जा रहा है|

प्रगत शैक्षिक अध्ययन संस्थान भोपाल में इस ग्रीष्म शिविर 'नन्हीं कलम से' का आयोजन 14 से 18 मई तक किया जा रहा है| इस पांच दिवसीय ग्रीष्म शिविर में प्रदेश के हर एक क्षेत्र से आये बच्चे नित्य नये आयामों से परिचित होकर मनोरंजनात्मक तरीकों से हिंदी विषय की दक्षता प्राप्त करेंगे| साथ ही भोपाल के अनेक दर्शनीय स्थालों के भ्रमण कर उनके ऐतिहासिक तथा वैज्ञानिक महत्त्व को भी जानेंगे|



संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें