चौथा वर्षगाँठ समारोह

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय की स्थापना के चौथे वर्ष का समारोह
(06 से 11 जून, 2017)

जनजातीय संग्रहालय में हुआ उद्गार कला शिविर का समापन

विगत 9 जून से जनजातीय संग्रहालय में चल रहे समकालीन चित्रकारों के कला शिविर उद्गार का आज शाम समापन हुआ। समापन अवसर पर मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह पधारे एवं उन्होंने सभी कलाकारों से परिचय प्राप्त करने हुए उनकी बनायी कलाकृतियों का अवलोकन किया।

इस कला शिविर में देश भर से जाने माने चित्रकार पधारे थे जिनमें सर्वश्री श्याम शर्मा, संगीता कुमार मूर्ति, रवीन्द्र साल्वे, भूरी बाई, लाडो बाई, रमेश भोसले, बी आर बोदड़े, पार्थ भट्टाचारजी, धु्रति महाजन, मदनलाल, तेजिन्दर कांडा, किशोर राय, नवल किशोर, साबिया, सरोज श्याम, छोटी तेकाम, जापानी श्याम, तक्ष मोहन, मंगला बाई शामिल थे। इस शिविर का समन्वय सुश्री जया सिंह ने किया था।

अतिथि मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने तीन दिन की अल्प अवधि में कलाकारों द्वारा बनाये गये श्रेष्ठ चित्रों को सराहा। उन्होंने सभी कलाकारों का पुष्प गुच्छ भेंटकर स्वागत किया। समापन अवसर को यादगार बनाने के लिए एक सिग्नेचर कैनवास भी रखा गया था जिसमें मुख्य सचिव श्री सिंह, आयुक्त संस्कृति श्री राजेश प्रसाद मिश्रा एवं सभी कलाकारों ने अपनी उपस्थिति को सांकेतिक ढंग से रेखांकित किया। इस अवसर पर आदिवासी लोककला एवं बोली विकास अकादमी की निदेशक श्रीमती वन्दना पाण्डेय भी उपस्थित थीं।


संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें