अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन में हुआ नाटक मीडियम वेव्स, जीरो हार्ट का मंचन (20/04/2018)

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में नवीन रंगप्रयोगों के प्रदर्शन की साप्ताहिक श्रृंखला 'अभिनयन' में आज के.के राजन के निर्देशन में नाटक 'मीडियम वेव्स, जीरो हार्ट' का मंचन संग्रहालय सभागार में हुआ|

इस नाटक के केन्द्र में इन्द्रजीत ठाकुर है, जो गाँव के जमीदार का बिगड़ा हुआ पुत्र है| जिससे गाँव में एक अपराध हो जाता है| अतः पुलिस से बचने के लिए, वह शहर भाग जाता है| शहर पहुँचते ही गलत तरीके अपनाकर वह बहुत अमीर हो जाता है| इन्द्रजीत ठाकुर के इस तरह के व्यक्तित्व को देख और सुनकर गाँव के दो युवा भी कुछ काम की तलाश में शहर आते हैं| काफी दिनों तक उन्हें कोई काम नहीं मिलता न ही वह इन्द्रजीत ठाकुर से मिल पाते हैं और दूसरी ओर वह इस तरह पारिवारिक परेशानियों में फंसे हैं कि उनको शहर में धन कमाना ही होगा| जहाँ शहर में आई.टी क्षेत्र में कई नौकरियाँ उपलब्ध हैं, पर उन्हें इस क्षेत्र का काम नहीं आता, क्योंकि वह अनपढ़ हैं| अंत में वह झूठ बोल कर नौकरी की तलाश करते हैं| इस नाटक के माध्यम से निर्देशक ने सन्देश देने की कोशिश की है कि बुराई और बुरा रास्ता कितना भी सुगम्य या अच्छा दिखे, पर फिर भी हमें उस रास्ते पर चलने से परहेज ही करना चाहिए|

इस नाटक में मंच पर नितिन तेजराज, लोकेन्द्र सिंह, प्रेम अष्ठाना, सपना अग्रवाल, मानस भारद्वाज, अबीर वर्मा और कान्हा जैन ने अपने अभिनय से दर्शकों को मन्त्रमुग्ध कर दिया| इस नाटक का लेखन एवं निर्देशन के.के राजन ने किया है| नाटक के दौरान संगीत सञ्चालन में रोमी सेन ने, प्रकाश परिकल्पना में मो. शान्शाह ने, वस्त्र विन्यास में सपना अग्रवाल ने और सेट निर्माण में प्रमोद गायकवाड़ ने सहयोग किया|

के.के. राजन ने सन् 1991 में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, दिल्ली से निर्देशन में डिप्लोमा प्राप्त किया| इन्होंने मलयालम, अंग्रेजी, हिंदी, तमिल, बंगाली, फ्रेंच आदि भाषाओँ में, कई नाटकों का सफल निर्देशन एवं लेखन किया है| के.के राजन ने रंगमंच के साथ-साथ फ़िल्मों में भी अभिनय व निर्देशन किया है, जिनमें मलयाली फ़िल्में प्रमुख हैं|


अप्रैल 2018 में होने वाले कार्यक्रम

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें