अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन में हुआ नाटक अगरबत्ती का मंचन (15/06/18)

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में रंग प्रयोगों के प्रदर्शन की साप्ताहिक श्रृंखला 'अभिनयन' में आज आशीष पाठक के निर्देशन में नाटक 'अगरबत्ती' का मंचन संग्रहालय सभागार में हुआ|

इस नाटक के केंद्र में फूलन देवी और बेहमई हत्याकांड है| ये घटना दुनिया के लिए एक सबक ही नहीं एक सवाल की तरह सामने आई, क्योंकि सवाल का जवाब आज तक नहीं दिया गया| सामंतवाद, पितृसता और जातिगत शोषण का फोड़ा फूट गया था| गोलियों की आवाज के साथ फूलन ने आत्मसमर्पण किया और जेल गईं| विधवा रथ यात्रा को लेकर गंभीर मतभेद पैदा हो गए और लगभग सभी बेहद स्वार्थपरक थे| राजनीति ने इस घटना और जातीय समीकरण को अपने पक्ष में साधना शुरू कर दिया| तीव्र भावुकता भारतीय राजनीति का वो उपकरण है, जो सत्ता के शीर्ष पर पल में पहुँच सकता है| इसका गंभीर विमर्श से कुछ भी लेना-देना नहीं होता| अगरबत्ती नाटक इस गंभीर विमर्श को पुनः पैदा करने का प्रयास है, जो वास्तविक घटना और भूगोल के धरातल पर काल्पनिक पात्रों और घटनाओं के रंग से रची गई नाट्य प्रस्तुति है| इस सवाल को अनुत्तरित इसलिए कहा गया, क्योंकि सांसद होते हुए फूलनदेवी की दिल्ली में जातीय प्रेरणा से हत्या हुई| इस प्रश्न से पुनः विमर्श ही नाटक अगरबत्ती का उद्देश्य है| नाटक की ज़मीन वही कब्र है, जहाँ फूलन की कथा को दफनाया गया, वहीँ से नाटक के नौ पात्र निकल कर आते हैं, आपसी उठापटक संघर्ष के साथ दुर्लभ सत्य तक पहुँच जाते हैं और नाटक का अंत होता है| आशीष पाठक द्वारा निर्देशित नाटक 'अगरबत्ती' में समाज में अंतर्निहित वर्ग, वर्ण और जेंडर के भेद के कारण पैदा होने वाले द्वेष को प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है|

इस नाटक में मंच पर कलाकारों में ज्योत्सना कटारिया, मानसी रावत, लालसा कनोजे, आशी केशरी, शिवांजलि गजभिये, स्वाति दुबे, गुंजन राइ, शोभा वर्मा, दीपम, लतिका, हर्षिता, उत्सव हांडे, अतुल गोस्वामी, ललित के. राम, अर्पित सिंह, शुभम अर्पित और शिवकर ने अपने अभिनय से दर्शकों को मन्त्रमुग्ध कर दिया| इस नाटक का मंचन आशीष पाठक के निर्देशन में हुआ| आशीष पाठक पिछले कई वर्षों से सतत सांस्कृतिक गतिविधियों तथा रंगकर्म में सक्रिय हैं| इन्होंने कई नाटकों में अभिनय करने के साथ ही साथ कई नाटकों का निर्देशन भी किया है|

प्रस्तुति के दौरान कई बार कलाकारों का उत्साहवर्धन दर्शकों ने करतल ध्वनि से किया|


जून 2018 में होने वाले कार्यक्रम

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें