अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

संस्कृति संचालनालय द्वारा संग्रहालय में होने वाले रंगप्रस्तुति पर एकाग्र श्रृंखला 'अभिनयन'

नाटक ‘आशिक दरोगा’ का मंचन किया गया

नवीन रंगप्रयोगों की श्रृँखला ‘अभिनयन’ के अन्तर्गत 24 मार्च, 2017 को रंग माध्यम नाट्य संस्था भोपाल के कलाकारो द्वारा श्री दिनेश नायर के निर्देशन में नाटक ‘आशिक दरोगा’ का मंचन किया गया। मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखित मानसरोवर कहानी संग्रह से लिया गया है।

कथासार - शहरीय जीवनशैली पर आधारित इस नाटक में पुलिस विभाग के एक कर्मी की धूर्तता (लम्पटता) पर कटाक्ष करते हुए मौजूदा सामाजिक व्यवस्था पर प्रहार किया गया है। अपने उत्तरदायित्व से विमुख रिश्वतखोरी और कथित प्रेम प्रसंग सेे संकटग्रस्त पुलिसकर्मी के नैतिक आचरण में बदलाव को नाटक में प्रभावी तरीके से प्रस्तुत किया गया है। अपने उत्तरदायित्वों का ईमानदारी से निर्वहन करते हुए मनुष्य को अपनी दुष्प्रवृत्तियों पर अंकुश रखना ही नाटक का सार है।

मंच पर -अनूप शर्मा, शुभम उपाध्याय, निधि शर्मा, आस्था जोशी, विकास शर्मा, चन्द्रकुमार फाये, अत्ल पाल, अंबुज ठाकुर, अनुलेख, सौरभ ,रवि द्विवेदी,प्रवीण, राहुल और रूपा।

मंच परे -आस्था, अधीशा नायर, सपना पाटनकर, श्रद्धा शर्मा, प्रभातराज निगम, तनवीर अहमद, निखिल, शांतनु, लोकेश दुबे, श्याम नागर, शान्तनु बाकरे और ललित मिटोला।

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें