अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन - प्रत्येक शुक्रवार

अभिनयन में हुआ नाटक मौत के साये में का प्रदर्शन (02/11/2018)

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में नवीन रंगप्रयोगों के प्रदर्शन की साप्ताहिक श्रृंखला 'अभिनयन' में आज अपूर्व शुक्ला के निर्देशन में नाटक 'मौत के साये में' का मंचन संग्रहालय सभागार में हुआ|

इस नाटक के केन्द्र में एक परिवार है, जिसमें तीन भाई हैं| वह अपने आपसी विवाद और ज़मीन जायजाद के झगड़े के कारण, एक-दूसरे को दुश्मन मानने लगते हैं| लेकिन जब उनकी माँ को पता चलता है कि उनके पुत्र ज़मीन जायजाद के मामले में एक-दूसरे के दुश्मन बन बैठे हैं| तब वह उनमें सुलह कराने का प्रयास करती हैं| अतः तीनों पुत्र इतने लालची हो जाते हैं कि वह अपनी ही माँ की हत्या तक करने का प्रयास कर देते हैं| अंततः तीनों पुत्रों को अपनी गलती का और अपने लालची होने का एहसास होता है| इसी के साथ नाटक का अंत होता है| इस नाटक के माध्यम से लालच को त्यागने और अच्छे आदर्शों को महत्व देने का सन्देश दिया गया है|

इस नाटक में मंच पर अनुराधा राव, अपूर्व शुक्ला, शाहरुख खान, अर्पिता श्रीवास्तव, प्रीति श्रीवास्तव, फारूक शेख, सुनील सोनहिया, योगेश पटेल, आज़म खान और गौरव सिंह ठाकुर आदि ने अपने अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया| नाटक के दौरान प्रकाश परिकल्पना में अंश पायन सिन्हा ने, संगीत में राजू राव और प्रदीप डोंगरे ने, मेकउप में राम बेस ने, सेट डिजाइन में आज़म खान ने सहयोग किया| इस नाटक का निर्देशन अपूर्व शुक्ला ने किया| अपूर्व शुक्ला कई वर्षों से रंग कर्म के क्षेत्र से जुड़े हैं| अपूर्व शुक्ला ने कई नाटकों में अभिनय करने के साथ ही साथ कई नाटकों का निर्देशन भी किया है|

नाटक के दौरान कई बार दर्शकों ने दर्शकों ने करतल ध्वनि से मंच पर मौजूद कलाकारों का उत्साहवर्धन किया|


नवम्बर में अन्य कार्यक्रम

संग्रहालय में दीर्घाएँ

सांस्कृतिक वैविध्य

मध्यप्रदेश की विशिष्टता को स्थापित करने तथा उसकी बहुरंगी, बहुआयामी संस्कृति को बेहतर रूप से समझने और दर्शाने का कार्य दीर्घा क्रमांक-एक...

आगे पढें

जीवन शैली

दीर्घा-एक से दो में प्रवेश करने के लिए जिस गलियारे से गुजर कर जाना होता है, वहाँ एक विशालकाय अनाज रखने की कोठी बनाई गई है।...

आगे पढें

कलाबोध

कलाबोध दीर्घा में हमने जीवन चक्र से जुड़े संस्कारों तथा ऋतु चक्र से जुड़े गीत-पर्वों-मिथकों, अनुष्ठानों को समेटने का उद्देश्य रखा है।...

आगे पढें

देवलोक

संकेतों, प्रतीकों की जिस आशुलिपि में इस आदिवासी समुदाय ने अपने देवलोक के वितान को लिखा है, उसकी व्यापकता दिक्-काल की अनंत-असीम की ...

आगे पढें

अतिथि राज्य छत्तीसगढ़

अतिथि राज्य की आदिवासी संस्कृति को दर्शाती दीर्घा में सबसे पहले छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों के जीवन को प्रस्तुत किया जा रहा है।...

आगे पढें

प्रदर्शनी दीर्घा

दीर्घा में नीचे मध्य में बने मानचित्र पर मध्यप्रदेश में रहने वाली सभी प्रमुख जनजातियों की भौगोलिक उपस्थिति को सांकेतिक रूप से उनके महत्त्वपूर्ण ...

आगे पढें